3:52 pm - Sunday April 22, 2018

अमेठी महल पर क़ब्ज़े को लेकर विवाद : फायरिंग में पुलिस कर्मी मारा गया

420 Viewed रुदौली न्यूज़ टीम 0 respond

अमेठी के भूपति भवन के विवाद में रविवार को खूनी संघर्ष का रूप ले लिया। इस विवाद में पुलिस और लोगों के बीच फायरिंग में अमेठी थाने के एक सिपाही घायल हो गए और उसके बाद उनकी मौत हो गई है। संजय सिंह दोपहर 2 बजकर 20 मिनट पर अमिता सिंह के साथ अमेठी स्थित भूपति भवन पहुंचे। फिलहाल अमेठी में तनावपूर्ण शांति है।

राज्यसभा सांसद डां संजय सिंह के पहले पत्नी के बेटे अन्नत सिंह को नजरबंद करने की सूचना पर भड़के उनके समर्थकों और ग्रामीणों ने भूपति भवन का घेराव कर लिया। ऐसी खबर आ रही है कि संजय सिंह अपनी दूसरी पत्नी रानी अमृता सिंह के साथ अमेठी पहुंच रहे हैं।

 

पुलिस और समर्थकों में जमकर कहासुनी हुई है। देखते ही देखते पुलिस ने भीड़ पर लाठी चार्ज कर दिया। जवाब में भीड़ ने भी पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया।

 

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले और रबर की गोलियों का भी इस्तेमाल किया। जब भीड़ नियंत्रित नही हुई तो पुलिस ने हवाई फायरिंग की। जवाब में भीड़ की तरफ से फायरिंग शुरू हो गई। फायरिंग में अमेठी थाने के एक सिपाही घायल हो गए और उसके बाद उनकी मौत हो गई। लाठी चार्ज में करीब आधा दर्जन लोगों के घायल होने की सूचना है हालांकि प्रशासन इसकी कोई पुष्टि नहीं कर रहा है।

बवाल के दौरान मीडिया कर्मियों को भी पुलिस ने अपना निशाना बनाया। मीडिया कर्मियों को भूपति भवन के पास से खदेड़ दिया गया है।

19 जुलाई को राज्यसभा सांसद डा सजय सिंह की पहली पत्नी गरिमा सिंह उनके बेटे अन्नत विक्रम सिंह और दो बेटियां भूपति भवन पहुंची और सम्पत्ति पर अपना दावा पेश कर दिया था। इसी को लेकर पिता- पुत्र में  विवाद बढ़ गया। रविवार को डा. संजय सिंह और उनकी पत्नी अमीता सिंह को भूपति भवन आना था। प्रशासन ने शनिवार रात से ही भूपति भवन के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया। सुबह सवा दस बजे  अन्नत समर्थकों को सूचना मिली की अन्नत विक्रम सिंह को भूपति भवन में नजरबंद कर दिया गया है। इसके बाद करीब 1000 से ज्यादा समर्थकों की भीड़ भूपति भवन के सामने पहुंच गई। पुलिस व प्रशासन के अधिका रियों ने भीड़ को वापस जाने को कहा तो वह नारेबाजी करने लगे। इस के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज शुरू कर दिया।

अमेठी के कुवंर अनंत विक्रम सिंह ने कहा कि मुझे घर में गिरफ्तार करके रखा है। नौकर को निकाल दिया गया है। महल के बाहर जनता राजा संजय सिंह के स्वागत में आई है। अमिता मोदी के लोगों ने अफवाह फैला दी है कि ग्रामीणों को हमने हंगामा करने के लिए बुलाया है। अमिता मोदी के लोगों ने ही हंगामा किया है।

उन्होंने कहा कि यह महाराज का यह घर है। मेरा अपने पिता से विरोध नहीं है। विरोध है कि अमिता मेरी मां नहीं और मैं किसी को भी मां नहीं मान सकता। वह महाराज की पत्नी भी नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने महाराज और मेरी मां के तलाक को गलत ठहराया है। मेरी मां ही उनकी पत्नी हैं। किसी की दो पत्नी कैसे हो सकती हैं। महाराज और मेरी मां बात करेंगे और परिवार तय करेगा कि अमिता मोदी आएंगी या नहीं। महाराज से मैं पैर पकड़कर गुजारिश करूंगा। वह मेरा फोन भी नहीं उठा रहे हैं। मेरी मां ने अमिता मोदी को पूरी संपत्ति दे दी है। बैंक बेलेंस दे दिया है। मेरी मां महल में रहे इस पर अमिता कैसे आपत्ति कर सकती है।

एंड्रॉएड ऐप पर रुदौली न्यूज़ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करेंअपने फ़ेसबुक पर रुदौली न्यूज़ की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Don't miss the stories followरुदौली न्यूज़ and let's be smart!
Loading...
0/5 - 0
You need login to vote.

विधायक की पंचायत में रेप की सजा प्रदेश बदर

बेटा नहीं हुआ तो बेटियों के साथ बहू को भी ‌घर से निकाला अमेठी की घटना

Related posts
Your comment
Leave a Reply

  (To Type in English, deselect the checkbox. Read more here)

Lingual Support by India Fascinates
%d bloggers like this: