5:06 pm - Monday July 23, 2018

ये 10 अधिकार हर भारतीय के जन्मसिद्ध अधिकार हैं, जिन्हें आपको हर हाल में जानना चाहिए

336 Viewed रुदौली ब्यूरो 0 respond
single-thumb.jpg

भारत एक समृद्ध और विकासशील देश है. देश की न्याय व्यवस्था भी काफी सुदृढ़ है. आमतौर पर बहुत से लोगों को अपने अधिकारों के और उनसे जुड़े कानूनों के बारे में नहीं पता होता है, जिस कारण वो बुरी तरह फंस जाते हैं और उनको तगड़ा जुर्माना भी भरना पड़ सकता है. आइये आज आपको ऐसे ही 16 कानूनों से रु-ब-रु करवाते हैं, जिनका उल्लंघन करना बहुत भारी पड़ सकता है.

1. अगर आपके घर में रखे गैस सिलिंडर में अचानक से विस्फोट हो जाता है तो आप इसके लिए 40 लाख रुपए तक के हर्जाने की मांग कर सकते हैं. यह हर भारतीय का कानूनी अधिकार है00q
2. आजकल हमारे देश में हर कंपनी में छोटे-बड़े मौके पर और किसी काम को जल्दी से जल्दी पूरा करवाने के लिए तोहफ़े देने का चलन हो गया है. लेकिन हम आपको बता दें कि कंपनी में तोहफ़ा देना और किसी से तोहफ़ा लेना कानूनन जुर्म होता है. इसे रिश्वत लेने और देने के रूप में देखा जाता है. सरकार ने 2010 में इसके लिए एक कानून बनाया था जिसके तहत अगर आप किसी कंपनी में किसी को तोहफा देते हैं या तोहफा लेते हैं तो आप पर कानूनी कार्यवाई हो सकती है.002
3. महिलाओं के लिए क़ानून है कि एक महिला को पुलिस स्टेशन ले जाने के लिए महिला पुलिस अधिकारी को ही आना होगा. इसके विपरीत अगर किसी महिला को कोई पुरुष पुलिस अधिकारी गिरफ्तार करके अपने साथ पुलिस स्टेशन ले जाता है तो ये एक अपराध है. ऐसा करने पर पुरुष पुलिस अधिकारी के ऊपर कानूनी कार्यवाई हो सकती है. इसके अलावा अगर किसी महिला को शाम के 6 बजे से लेकर सुबह 6 बजे के बीच पुलिस स्टेशन बुलाया जाता है तो वो महिला पुलिस स्टेशन आने से साफ़ मना कर सकती है.0034. साल 1961 में Income Tax Act के अंतर्गत एक नियम बनाया गया था. इस नियम के तहत टीआरओ (Tax Recovery Organization) के ऑफिसर्स के पास टैक्स न देने की स्थिति में आपको गिरफ़्तार करने का पूरा अधिकार है. साथ ही उनकी इज़ाजत के बिना आप जेल से बाहर नहीं आ सकते हैं.0045. हमारे देश में जहां कारों और मोटरसाइकिलों की भरमार है, वहीं बहुत से लोग साइकिल से चलते हैं. लेकिन क्या आपको साइकिल से जुड़े इस नियम के बारे में पता है? Motor Vehicle Act के अंतर्गत साइकिल और रिक्शा नहीं आते, इसलिए साइकिल चलाने वालों को Vehicle Act के नियमों का पालन नहीं करना पड़ता0056. हमारे देश में चुनाव का समय आते ही गाड़ियों पर अलग-अलग पार्टियों के प्रचार के लिए बैनर और झंडे लग जाते है. देश में क़ानून है कि अगर कोई पार्टी चुनाव प्रचार के दौरान आपकी गाड़ी किराये पर लेना चाहे तो ले सकती है और उसके लिए आपको किराया भी मिलेगा0067. भारत में ट्रैफिक नियमों के अनुसार नियम तोड़ने पर एक दिन में एक ही बार आपका चालान कटेगा, बार-बार नहीं. जैसे अगर हेलमेट न पहनने के लिए आपका एक बार चालान कट गया है तो फिर पूरे दिन में कोई दूसरा ट्रैफिक पुलिस अधिकारी आपका चालान नहीं काट सकता है और न ही आपसे जुर्माना ले सकता है.0078. पुलिस एक्ट के अनुसार राज्य का पुलिस अधिकारी हमेशा ड्यूटी पर रहेगा. अगर राज्य के किसी भी कोने में आधी रात में कोई घटना या अपराध होता हैं तो पुलिस अधिकारी यह नहीं बोल सकता की वो ड्यूटी पर नहीं है, क्योंकि भारतीय पुलिस एक्ट के अनुसार एक पुलिस वाला बिना वर्दी के भी ड्यूटी पर होता है.0089. एक नियम यह भी है कि आप बाज़ार में किसी भी वस्तु की MRP (Maximum Retail Price) पर मोल-भाव कर सकते हैं. जैसे कि अगर किसी सामान पर उसका मूल्य 500 रुपए लिखा है, तो आप मोल-भाव करके 400 रुपए में भी खरीद सकते हैं.0091010. भारतीय क़ानून के अनुसार अगर कोई व्यक्ति आपसे पैसे लेकर आपको वापस नहीं देता है, तो आप उसके खिलाफ़ अदालत में शिकायत दर्ज़ करें. यह आपका कानूनी अधिकार है कि तीन साल के अंदर आप अपनी एप्लीकेशन देकर अदालत में मामला दर्ज़ करा सकते हैं.

Don't miss the stories followरुदौली न्यूज़ and let's be smart!
Loading...
0/5 - 0
You need login to vote.

बेगुनाह लोगों को मारना इस्लाम नहीं सिखाता इस्लाम नाम है अमन मोहब्बत इंसानियत का प्रोफेसर डॉ सैयद शमीम अहमद

prev-next.jpg

,फैजाबाद की बीकापुर सीट पर उपचुनाव कल

Related posts
Your comment
Leave a Reply

  (To Type in English, deselect the checkbox. Read more here)

Lingual Support by India Fascinates
%d bloggers like this: